अंतिम अद्यतन : 25/06/2019
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
कला इतिहास, संरक्षण एवं संग्रहालय विज्ञान
(विश्वविद्यालयवत्)
संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार
 
 
 
 
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान को सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1860 के अंतर्गत 27 जनवरी, 1989 को गठित एवं पंजीकृत किया गया। इसे 28 अप्रैल, 1989 को विश्वविद्यालयवत् का दर्जा प्रदान किया गया। यह संस्थान, अपनी स्थापना से अब तक, कला एवं सांस्कृतिक विरासत के क्षेत्र में प्रशिक्षण और अनुसंधान के लिए देश में एक अग्रणी केन्द्र रहा है। यह संस्थान राष्ट्रीय संग्रहालय परिसर के अन्दर स्थित है। इसका उद्देश्य छात्रों को कला और सांस्कृतिक विरासत की सर्वोत्कृष्ट कृतियों के साथ सीधे तौर पर रूबरू कराना और समूचे शिक्षण के लिए राष्ट्रीय संग्रहालय की सुविधाओं, जैसे प्रयोगशाला, पुस्तकालय, भंडारण/आरक्षित संग्रहण तथा तकनीकी सहायक खंडों तक आसानी से पहुँचाना है।
अद्यतन समाचार और समारोह
 

सूचना की तारीख : 25-06-2019

प्रवेश सूचना : अल्पावधि पाठ्यक्रम - 2019 के लिए

निम्नलिखित दो अल्पकालीन पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। इन पाठ्यक्रमों की अवधि पांच माह की है जिसमें 2 घंटे की अवधि के 18 व्याख्यान शामिल हैं:

    • आर्ट एप्रिसिएशन (अंग्रेज़ी माध्यम)
    • भारतीय कलानिधि (हिन्दी माध्यम)

आवेदन जमा करने की अंतिम तारीख 24-07-2019 (बुधवार) है।

 
 

सूचना की तारीख : 17-06-2019

प्रवेश सूचना 2019-20: स्नातकोत्तर और पीएच. डी. पाठ्यक्रमों के लिए

पात्रता प्राप्त अभ्यर्थियों से जुलाई/अगस्त 2019 से प्रारम्भ होने वाले शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए स्नातकोत्तर और पीएच. डी. पाठ्यक्रमों के लिए निर्धारित प्रपत्र में आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं।

आवेदन जमा करने की अंतिम तारीख 16-07-2019 (मंगलवार) है।

 
 
 
   
फोटो गैलरी
   
 
     

     
     
 
   
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
कला इतिहास, संरक्षण एवं संग्रहालय विज्ञान
(विश्वविद्यालयवत्), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार
फोनः +91 11 23012106

  होम  |  एफ ए क्यू  |  रिक्तियों की स्थिति  |  ऱिक्तियां  |  निविदा / कोटेशन  |  संस्कृति मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन  |  आर एफ डी  

  यौन उत्पीड़न पर आईसीसी  |  रैगिंग विरोधी कमेटी  |  आर टी आई  |  शिकायत  |  डाउनलोड  |  साइटमैप  |  सम्पर्क करें  

कॉपीराइट © 2017 राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, सर्वाधिकार सुरक्षित